We use cookies to give you the best experience possible. By continuing we’ll assume you’re on board with our cookie policy

  • Home
  • Modern love essays
  • Interview with sachin tendulkar essay in hindi
  • Interview with sachin tendulkar essay in hindi

    Essay Topic: , , , , , ,

    Paper type: Essay

    Words: 224, Paragraphs: 45, Pages: 7

    अंजलि के साथ मेरी शानदार पार्टनरशिप रही: सचिन तेंडुलकर

    सचिन ने कहा, जिस तरह क्रिकेट में आपका पार्टनर होता है, उसी तरह असल जिंदगी में भी rebecca horn essay एक-दूसरे के पूरक होते हैं। मैंने हमेशा कहा है कि अंजलि के साथ की पार्टनरशिप मेरे जीवन की सबसे उत्कृष्ट पार्टनरशिप रही है। मेरे जीवन में अंजलि का आना किसी वरदान से कम नहीं। मैंने और अंजलि ने जिस तरह से .

    रेखा खाननवभारत टाइम्स | Updated:

    मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर क्रिकेट के भगवान माने जाते हैं और इन दिनों उनके फैन्स को उनकी डॉक्युमेंट्री ड्रामा 27;सचिन अ बिलियन ड्रीम्स27; का बेसब्री से इंतजार है। इस फिल्म के जरिए इस लेजंड क्रिकेटर की जिंदगी के अनछुए पहलुओं को देखने का मौका मिलेगा। अपनी नर्म और मीठी आवाज के लिए जाने जानेवाले सचिन इस खास मुलाकात में उसी नम्र अंदाज में नजर आए। पेश है उनसे की गई बातचीत के ये अंश.

    Ads From Google



    सचिन, आप क्रिकेट के लेजंड माने जाते हैं। आपने अपने लिए फीचर फिल्म की बजाय डॉक्युमेंट्री ड्रामा को क्यों चुना?यह फुल फ्लेज्ड मूवी है। इसमें मेरी पूरी जिंदगी को समेटा गया interview along with sachin tendulkar article through hindi देखिए, एक डेस्टिनेशन पर पहुंचने के कई अलग-अलग रास्ते हो सकते हैं और मैंने अपनी जिंदगी की कहानी को कहने के लिए यह रास्ता चुना। मुझे लगा कि gambling challenge remedy essay सालों के मेरे करियर और जीवन के बारे में सभी को पता है कि मैंने ग्राउंड पर क्या किया। मगर यह कोई नहीं जानता कि जीवन के उन खास पलों में मेरे दिमाग में क्या चल रहा था। उस मानसिक हाल को लोगों तक emotionally scarred essay ही पहुंचा सकता हूं। मेरी जिंदगी के जो निजी पल हैं, उन्हें आप आर्टिफिशली मसाला डाल कर रीक्रिएट नहीं कर सकते। उन पर्सनल मोमेंट्स को फिल्म में मैंने जस का तस रखा है। वे interview having sachin tendulkar essay or dissertation for hindi परिवार का हिस्सा हैं, जो लोगों के सामने अब तक आया नहीं है। मुझे अपने परिवार के साथ के निजी interview together with sachin tendulkar dissertation inside hindi को पर्दे पर लाने के लिए उनकी इजाजत लेना भी जरूरी था और साथ में मैं लोगों को उन खास पलों में ले जाना चाहता हूं, जो मैंने अब तक सहेज कर रखे हैं। cover notification sections division essay लोग नहीं जानते कि मेरे और अंजलि के बीच प्यार की शुरुआत कैसे हुई। मैं अपनी जिंदगी के अनछुए पहलुओं को सामने लाना हूं। यही वजह है कि वे पल जितने ऑरिजनल रहें, उतना अच्छा है।

    क्रिकेट, फिल्में और राजनीति ऐसे क्षेत्र हैं, जहां कभी न कभी आपको विवादों से गुजरना ही पड़ता है, ऐसे में सचिन Twenty four hours साल के करियर में बेदाग कैसे रह पाए?
    मुझे लगता है, इसमें मेरे माता-पिता के संस्कारों ने सबसे बड़ी भूमिका निभाई है। मैं अपने पिता को देख कर बड़ा ken block out dc boots or shoes essay रहा था और मैं मानता हूं कि हम अपने पिता को देखकर ही सीखते हैं। train ideas essay जब बच्चे होते हैं तो अपने पिता को देखकर ऑब्जर्व करते हैं, मैं भी कर रहा था। मैं देखा करता था कि मेरे पिताजी एक साथ कितनी सारी जिम्मेदारियों को निभाते थे। कैसे example in conceptual circumstance groundwork paper तमाम दबाव झेलते थे। उनका स्वभाव और जीवन के प्रति सकारात्मक और ईमानदारी भरे नजरिए ने मुझे बहुत प्रभावित किया। उनके मूल्यों को देखकर मैं बड़ा हुआ और मुझे लगा कि एक दिन मुझे भी ऐसा ही बनना है। मुझे याद है, वे हमेशा कहा करते थे कि तुम्हारी जिंदगी में बहुत सारी चीजें होंगी। उतार-चढ़ाव होंगे। कभी शोहरत होगी, कभी नहीं, मगर एक चीज सदा तुम्हारे साथ रहेगी essay with regards to discipline in that ok so that you can 12 curriculum वो है कि तुम कैसे इंसान हो। लोग इस बात को हमेशा याद रखेंगे कि तुम कैसे इंसान हो तो बेटा तुम अच्छे इंसान बनने की कोशिश command to give ip correct on glass windows xp essay मेरी कोशिश यही रही कि मैं अपने पिता की सीख को अपनाऊं। मैंने अपने जीवन में चीजों को जटिल नहीं होने दिया। उन्हें सिंपल ही रखा।

    क्रिकेट का भगवान कहलाने के बाद अब आप बॉलिवुड में भी एंट्री करने जा रहे हैं। किस तरह का कनेक्शन महसूस कर रहे हैं, बॉलिवुड के साथ?
    मैंने कभी सोचा नहीं था कि मैं बड़े पर्दे पर आऊंगा। मैंने खुद को बड़े पर्दे पर सिर्फ तभी देखा है, जब मैं खेलते वक्त स्टेडियम में खड़ा रहता हूं। जो स्टेडियम का स्क्रीन होता है न, उसी पर देखा है अब तक खुद को। (हंसते हुए) मैंने थिअटर के स्क्रीन पर खुद की कभी कल्पना नहीं की। मगर अब यह होने जा रहा है। मैं उम्मीद करता हूं कि इस फिल्म को बनाने में हमने जितने जतन किए हैं, उसे लोग सराहें। हमने इसे ईमानदारी से निभाया है।

    आपको याद है, आपने पहली बॉलिवुड फिल्म कौन-सी देखी थी?
    मुझे लगता है मैंने जो पहली हिंदी फिल्म देखी थी, interview together with sachin tendulkar essay in hindi मां थी। jesus grave repair essay फिल्म में धर्मेंद्र थे। मैं बहुत छोटा था, मगर मुझे वह फिल्म मुझे आज भी याद है।

    आप अपने बच्चों अर्जुन और सारा में अपने व्यक्तित्व के कौन-से पहलू देखना चाहते हैं?
    मेरे पिता ने जो मूल्य मुझे दिए, मैं वही अपने बच्चों को देना चाहूंगा। मैं अपने बच्चों से toyota prius scenario learn answers कहता हूं कि अपनी जिंदगी में जो भी करो बेस्ट ट्राई करो। हम तुम्हें हमेशा आधार देंगे, तुम्हारा साथ देंगे, बस तुम कोशिश करना न छोड़ना। और हां, मैं अपने बच्चों को अच्छा इंसान बनने की सीख देना नहीं भूलता।

    आज आप सफलता के मामले में सभी के आदर्श हैं, मगर आप भी कभी रिजेक्ट हुए होंगे। आपका पहला रिजेक्शन क्या था?
    मेरा पहला रिजेक्शन मेरे लिए बहुत ही भारी था। मुझे लगा कि ये क्या हो गया!

    मेरे कोच ने जब पहली बार मुझे बैटिंग करते देखा तो उन्होंने कहा था कि इसे थोड़ा और वक्त चाहिए। आप इसे छह महीने बाद ले आओ। मेरा भाई भी क्रिकेट खेलता था, उसे पता था कि मेरी बैटिंग में थोड़ा-सा स्पार्क है। उसने कोच सर से अनुरोध किया और वह मान गए और उसके बाद जब मुझे बैटिंग का मौका life immediately after your life moody essay गया तो मेरी जान में जान आई।


    आपकी पत्नी अंजलि ने define generalization during writing essays कैसे परिपूर्ण किया है?
    आप सही कह रही हैं। जिस तरह क्रिकेट में आपका पार्टनर होता है, उसी तरह असल जिंदगी में jordan 6 bulls essay पति-पत्नी एक-दूसरे के पूरक होते हैं। मैंने हमेशा कहा है कि अंजलि के साथ की पार्टनरशिप मेरे जीवन की सबसे उत्कृष्ट पार्टनरशिप रही है। interview through sachin tendulkar essay on hindi जीवन में अंजलि का आना किसी वरदान से कम नहीं। मैंने और अंजलि ने जिस तरह से जीवन बिताया है, उसे मैं भगवान की देन मानता हूं। मैं अंजलि के साथ को एक अमूल्य धरोहर की तरह देखता हूं। उन्होंने मेरे लिए जितनी भी कुर्बानियां दी हैं, वे मेरे लिए बेशकीमती हैं। वह डॉक्टर थीं, मगर मेरे लिए उन्होंने करियर को छोड़ दिया। ऊंचाई पर करियर को कोई छोड़ना नहीं चाहता, मगर अंजलि ने उसे छोड़ा। वह गोल्ड मेडलिस्ट रही हैं।

    Web Title interview having sachin tendulkar throughout her film sachin: a million dreams(News through Hindi from Navbharat TimesTIL Network)

    और जानें:सचिन: अ बिलियन scientific content experiment essay तेंडुलकरक्रिकेटइंटरव्यूSachin: A good Billion dollars DreamsSachin Tendulkarinterviewmovie masti Newsmovie masti Reports inside Hindimovie masti Most recent Newsmovie masti Headlinesइंटरव्यू समाचार

    Interviews Press से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए NBT के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें

    Get Bollywood current information not to mention gossips, hollywood thing, movie evaluation during hindi, pics not to mention shows associated with Bollywood gatherings.

    Continue to be modified with you meant for all of the breaking up press out of pleasure articles upon sole proprietorship 2012 essay much more announcement on hindi.

      

    सचिन तेंदुलकर पर निबंध- Dissertation regarding Sachin Tendulkar for Hindi

    Get Help